Interaction with Art of Living Founder, Gurudev Sri Sri Ravi Shankar

On the occasion of World Environment Day as d Secretary Designate (2021-22) for Rotary Bangalore got a great opportunity to interact and witness live a wonderful session addressed by Gurudev Sri Sri Ravi Shankar (The Art of Living Foundation), Rotary International President-Elect Rtn. Shekhar Mehta ji, Theatre personality and District Director Environment Rtn. Prakash Belawadi on a single platform.

My published news reports and Interview with Sri in New Delhi National Newspaper Amrit India newspaper, Rajasthan Patrika Bengaluru edition, and in Lokmat News(Maharashtra, New Delhi, Pune, Madhya Pradesh, Rajasthan’s prominent national newspaper)- https://www.lokmatnews.in/india/covid-coronavirus-lockdown-people-committing-suicide-pandemic-we-have-to-manage-life-sri-sri-ravi-b507/?fbclid=IwAR1Ws8L6qJxkPf4qswGIDvMGwbByI9mG8MQF3Z_Y0i8yIclRjcbhWJ2HlOY

 

With broad vision, we see the entire world as one entity, beyond ideologies, and narrow-minded impressions: Gurudev Sri Sri Ravi Shankar

-Report by Anubha Jain

Vasudeva Kutumbakam means the entire world is like a family. When we see the entire world and humanity as one, we see with a broad vision that would be beyond ideologies, caste, community, religion and narrow-minded impression.” This was stated by the Art of Living founder Gurudev Sri Sri Ravi Shankar on the occasion of World Environment Day in a webinar organized by the Rotary Bangalore Greenpark, RI District 3190, and the Art of Living foundation.

Gurudev further stated that in this time of the pandemic, organizations like the Art of Living and Rotary have a major role to play and that is to serve society. Rotary has spread this message that service should be part of life. He further said that during calamity people come forward to serve but to do service when there is no crisis is the specialty of organizations like Rotary and the Art of living. He further said that Rotary has a major role to play in bringing peace to the world through inculcating and enhancing human values in the mind of every individual including scientists. Gurudev said that in this pandemic time, every day we are counseling hundreds of people who are facing the challenge of depression and are at the urge to commit suicide.

In the end, Gurudev said, “The health of our earth needs to be taken care of in the form of encouraging organic farming, growing more trees, boost the immune system of our population, and creating awareness about harmful things that we do to our planet. Bangalore the city of lake and gardens has transformed into the city of the concrete jungle that need to bring more greenery in the city.”

Gurudev showed interest and suggested that in the areas like the research for natural medicine formulas; cleaning of Bangalore lakes and making them good drinking water lakes; promoting people’s mental health, the Government of Karnataka, Rotary, and the Art of Living can collectively work and join hands.

इस सृष्टि को एक परिवार के रूप में देखने पर हमारा नजरिया संकुचित न रह कर व्यापक बन जाता है जिसमें जाति, विचारधारा या धर्म को बांधने वाली छोटी सोच निहित नहीं होती – गुरूदेव श्री श्री रविशंकर
रिपोर्ट-अनुभा जैन
पत्रकार लेखक

6.6.2021 बैंगलोर, पुराने शास्त्रों व लोगों द्वारा वसुदेव कुटुंबकम पर जोर दिया गया है जिसका अर्थ है यह सारी दुनिया एक परिवार के समान है। जब हम इस बं्रहमांड को एक परिवार के रूप में देखते हैं तो हमारा नजरिया संकुचित न रह कर व्यापक बन जाता है जिसमें जाति, विचारधारा या धर्म को बांधने वाली छोटी सोच निहित नहीं होती है। यह कहना था  गुरूदेव श्री श्री रविशंकर का जो रोटरी बैंगलोर ग्रीनपार्क, रोटरी इंटरनेशनल डिस्ट्रिक्ट 3190 व आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर आयोजित वेबिनार में मुख्य अतिथि के तौर पर बोल रहे थे।
गुरू रविशंकर का आगे कहना था कि इस मुश्किल समय में आर्ट ऑफ लिविंग और रोटरी जैसी संस्थाओं की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है। रोटरी का कार्य ही समाज सेवा और विश्व में शांति व सौहार्द्र लाना है। विपत्ति के समय तो लोग स्वतः ही मदद के लिये आगे आते हैं पर रोटरी तो सेवा को जीवन का अभिन्न अंग मानते हुये हमेशा ही इस मानव सेवा के कार्य में लगी रहने वाली संस्था है।
रविशंकर ने कहा कि हर व्यक्ति में संस्कारों और मानव मूल्यों को मन में बिठाने के साथ बढाने की जरूरत है । इस घडी में आज मै और मेरी संस्था हजारों लोगों को काउंसलिंग कर उनके आत्मबल को मजबूत करने का प्रयास कर रहे हैं जो लॉकडाउन और महामारी की वजह से डिप्रेशन का शिकार हो आत्महत्या तक के कठोर कदम को अपनाने में नहीं हिचक रहे हैं।

इस अवसर पर रोटरी इंटरनेशनल के प्रेसिडेंट इलेक्ट रोटेरियन शेखर मेहता, प्रसिद्व कलाकार व डिस्ट्रिक्ट डायरेक्टर पर्यावरण रोटेरियन प्रकाश बेलावडी, रोटेरियन ए.थिरूमुरूगन, डिस्ट्रिक्ट डायरेक्टर कोटी नाटी और रोटेरियन रमेश शिवाना, प्रेसिडेंट रोटरी बैंगलोर ग्रीनपार्क ने भी पर्यावरण से जुडे अपने विचार साझा किये। इस वेबिनार में डिस्ट्रिक्ट गवर्नर बी.एल. नागेनंद्र प्रसाद, रोटरी बैंगलोर साउथवेस्ट से प्रेसिडेंट इलेक्ट रोटेरियन अमरचंद रान्दड़ और सेक्रेटरी डेेसिगनेट रोटेरियन अनुभा जैन 2021-22, डिस्ट्रिक्ट गवर्नर इलेक्ट 2021-22 रोटेरियन फजल महमूद, रोटेरियन रश्मि तंकसाली व कई अन्य सीनियर रोटेरियन व गणमान्य अतिथियों ने भाग लिया । अंत में गुरूदेव ने कहा कि पर्यावरण दिवस के अवसर पर हमारे पृथ्वी को आज संभालने की जरूरत है, ऑरगेनिक कृषि को बढावा दे कर, अधिक वृक्षारोपण कर, और लोगों को पृथ्वी पर किये जाने वाले हानिकारक कार्यों की जानकारी देकर।गुरूदेव ने आर्ट ऑफ लिविंग और रोटरी जैसी संस्थाओं को प्राकृतिक दवाईयों के रिसर्च, लोगों को मुश्किल समय में मैंटल हैल्थ जैसे क्षेत्रों में साथ में कार्य करने की इच्छा भी जाहिर की।

 

(Visited 151 times, 1 visits today)

Leave a Reply